एक कविता-ज़िन्दगी

Saturday, August 20, 2011

नमस्कार,
आज मैं आपके सामने अपनी एक कविता लेकर फिर उपस्थित हुई हूँ...।
यह कविता अभी हाल में ही लखनऊ से निकलने वाले ‘जनसंदेश टाइम्स’ में प्रकाशित हुई है...।
हमेशा की तरह इस पर भी आपकी प्रतिक्रियाओं का इन्तज़ार रहेगा...।


                               एक कविता-ज़िन्दगी

        ज़िन्दगी
            मेरे लिए एक कविता है
            जो बहुत थोड़े में
            बहुत कुछ समेटे
            कभी किसी किताब में
            या कभी
            डायरी के पन्नों में बंद
            किसी कोने में पड़ी रहती है
            ज़िन्दगी
            मेरे लिए एक कविता है
            जिसे
            एक कोने में बैठ
            चुपचाप
            मन-ही-मन गुन लो
            या फिर
            चाहो तो गुनगुना लो
            दुनिया के मंच पर
            ज़िन्दगी
            मेरे लिए एक कविता है
            जो अभी भी अधूरी है
            सुनने वाले
            पता नहीं
            समझते हैं कि नहीं
            पर फिर भी
            आदतन
            तालियाँ बजती हैं
            अधूरी कविता चुभती नहीं उन्हें
            पर मैं
            जुटी हूँ खोज में
            अपनी कविता के लिए
            एक खूबसूरत अंत की...।

You Might Also Like

20 comments

  1. बहुत ही सुन्दर और प्यारा लेख है बधाई हो आपको आप भी जरुर आये साथ ही यहाँ शामिल सभी ब्लागर साथियो से आग्रह है की मेरे ब्लाग पर भी जरुर पधारे और वहां से मेरे अन्य ब्लाग पर क्लिक करके वह भी जाकर मेरे मित्रमंडली में शामिल होकर अपनी दोस्तों की कतार में शामिल करें
    यहाँ से आप मुझ तक पहुँच जायेंगे
    यहाँ क्लिक्क करें
    MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    ReplyDelete
  2. Always a fine read..its feels like sumone close I know is just stealing my words and putting them up )

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  4. प्रियंका जी आपने सही लिखा है कि-
    ज़िन्दगी
    मेरे लिए एक कविता है
    जिसे
    एक कोने में बैठ
    चुपचाप
    मन-ही-मन गुन लो
    या फिर
    चाहो तो गुनगुना लो
    दुनिया के मंच पर
    ज़िन्दगी
    मेरे लिए एक कविता है
    जो अभी भी अधूरी है
    -आपकी यह कविता एक अलग चिन्तन लिये हुए है । बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  5. जुटी हूँ खोज में
    अपनी कविता के लिए
    एक खूबसूरत अंत की...।

    बहुत खूब...सुन्दर अभिव्यक्ति...
    बधाई और शुभकानाएँ|

    ReplyDelete
  6. प्रियंका जी,

    "...... आदतन
    तालियाँ बजती हैं
    अधूरी कविता चुभती नहीं उन्हें
    पर मैं
    जुटी हूँ खोज में
    अपनी कविता के लिए
    एक खूबसूरत अंत की..."

    बहुत दिनों बाद आपको पढ़ने का मौका मिला ! आपकी इस कविता की साँसों की अकुलाहट जीवन के अधूरे विन्यास का पूरा लेखा जोखा प्रस्तुत करती है ! ऊपर उद्धृत पंक्तियाँ आपकी कविता को बहुत ऊँचाई तक ले जाती हैं !
    आभार !

    ReplyDelete
  7. positive oorja se bharpoor kavita ...kisi ke liye geet hai sangeet hai ..magar kisi ke liye dard bhari taan bhi to hoti hai jindagee ..

    ReplyDelete
  8. प्रियंका गुप्ता जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    ज़िन्दगी मेरे लिए एक कविता है जिसे एक कोने में बैठ चुपचाप मन-ही-मन गुन लो या फिर चाहो तो गुनगुना लो दुनिया के मंच पर

    बहुत सुंदर कविता है … बधाई !

    आपका मेरे यहां आना नहीं हुआ है

    मेरी ताज़ा पोस्ट पर आपके प्रथम आगमन के लिए प्रतीक्षा है ,

    काग़जी था शेर कल , अब भेड़िया ख़ूंख़्वार है
    मेरी ग़लती का नतीज़ा ; ये मेरी सरकार है

    वोट से मेरे ही पुश्तें इसकी पलती हैं मगर
    मुझपे ही गुर्राए … हद दर्ज़े का ये गद्दार है

    मेरी ख़िदमत के लिए मैंने बनाया ख़ुद इसे
    घर का जबरन् बन गया मालिक ; ये चौकीदार है

    पूरी रचना के लिए मेरे ब्लॉग पर पधारें … आपकी प्रतीक्षा रहेगी :)

    विलंब से ही सही…
    ♥ स्वतंत्रतादिवस सहित श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  10. isase badhiya ant bhalaa kaisa hota...

    ReplyDelete
  11. isase badhiya ant bhalaa kaisa hota...

    ReplyDelete
  12. इस कविता में आपने जीवन का मर्म डाल दिया है .. बधाई !!
    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  13. Priyanka jee आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए..
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये
    MITRA-MADHUR कृपया यहाँ चटका लगाये

    ReplyDelete
  14. प्रियंका जी आपने सही लिखा है
    बहुत खूब...सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  15. वाह!!!बहुत ही खूबसूरत!!आपके इस कविता को मैंने पढ़ा ही नहीं था पहले :(
    आज तो युहीं भटकते हुए आ गया तो पढ़ लिया कविता भी..वरना मैं तो कहने वाला था आपसे की बहुत दिन से आपने कुछ पोस्ट नहीं किया :)

    ReplyDelete




  16. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  17. मैं जुटी हूँ खोज में
    अपनी कविता के लिए
    एक खूबसूरत अंत की...।
    बहुत दिनों बाद आपको पढ़ने का मौका मिला !
    बहुत ही सुन्दर ...
    बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  18. Of course, what a magnificent website and illuminating posts, I definitely will follow your blog.Have an awesome day!…

    जगजीत सिंह आधुनिक गजल गायन की अग्रणी है.एक ऐसा बेहतरीन कलाकार जिसने ग़ज़ल गायकी के सारे अंदाज़ बदल दिए ग़ज़ल को जन जन तक पहुचाया, ऐसा महान गायक आज हमारे बिच नहीं रहा,
    उनके बारे में और अधिक पढ़ें : जगजीत सिंह

    ReplyDelete
  19. hoom sochne pr majboor karti kavita bhaut sunder bhavon se saji uttam kavita
    rachana

    ReplyDelete
  20. जीवन का अंत तो होता है परंतु कविता अनंत होती है
    सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई

    ReplyDelete