कुछ अलग से लोग

Tuesday, July 10, 2018



कुछ अलग से लोग
मिल जाते हैं यूँ ही
राह चलते
न तुम्हारे शहर के
न ही अपने से किसी गाँव के
फिर भी
मिलते हैं वो अक्सर
बेसबब, बेमतलब...
दूर होकर भी
चले आते हैं ख्वाबों में
ख्यालों में;
तुम्हारे माथे पर उनकी याद का बोसा
मानो
चुपके से कोई
नींद में आकर रख गया हो
दुआ का कोई फूल
तुम्हारे सिरहाने,
और जाते-जाते
कानों में कह गया हो-
खुश रहना सदा
क्योंकि
तुम मुस्कराते हुए बहुत अच्छे लगते हो
सच्ची...।

You Might Also Like

2 comments

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, पॉवर पॉईंट प्रेजेंटेशन - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete