In ज़िन्दगी, बचपन

एक लाइब्रेरी...कुछ आँसू...और ज़िंदगी...!

In बस यूँ ही...चलते-चलते..., सफ़र के साथी

सफ़र के साथी- एक

In ज़िन्दगी, दुनिया

नेकी कर दरिया में डाल...

In ज़िन्दगी, बस यूँ ही...चलते-चलते...

अधूरी नींद...टूटे ख्वाब...और कुछ कच्ची-पक्की सी कहानियाँ...(भाग-आठ)

In बस यूँ ही...चलते-चलते..., बेतरतीब पन्ने

यादों के धागे