In चोका, जापानी शैली

बचपन के दिन

In ज़िन्दगी, दुनिया

अतिथि देवो...न भवो...!

In बचपन, बस यूँ ही...चलते-चलते...

एक खण्डहर और चंद धड़कने...

In बस यूँ ही...चलते-चलते..., बेतरतीब पन्ने

यादों के मुहाने पर

In बस यूँ ही...चलते-चलते..., बेतरतीब पन्ने

आपन तेज़ सम्हारो आपे...